Latest :
सेक्टर-12 खेल परिसर में चल रहे तीन दिवसीय सांसद खेल महोत्सव में बास्केटबॉल गेम की हुई शुरुआतआजादी के अमृत महोत्सव की श्रृंखला में किया गया सांसद खेल महोत्सव का आयोजन बड़खल की विधायिका सीमा त्रिखा ने किया स्वच्छता अभियान का शुभारंभ मंडल स्तरीय कला एवं सांस्कृतिक प्रतियोगिता के आवेदन का 30 मई अंतिम दिन : डीसी जितेन्द्र यादव खेलो इंडिया मशाल 23 मई को पहुंचेगी फरीदाबाद, राहगीरी के जरिये होगा भव्य स्वागत 2 जोडी चांदी पाजेब सहित दो अलग-अलग चोरी के मामलों में दो आरोपियों गिरफ्तार, डॉग स्क्वायड टीम और डीएमआरसी टीम ने फरीदाबाद में सभी मेट्रो स्टेशन पर चलाया सर्च अभियानआजादी के गुमनाम नायकों को समर्पित रहा नाटक 'दास्तान- ए-रोहनात'थाना बीपीटीपी सेक्टर-75 एरिया में दिल्ली के मीठापुर की 27 वर्षीय युवती ने लगाई फ़ासीचोरी के मुक़दमे में वंचित चल रहे दो आरोपी सोने के रानी हार सहित गिरफ्तार
City Icon
किडनी स्टोन के उपचार का भविष्य है रेट्रोग्रेड इंट्रा रीनल सर्जरी (RIRS) : डॉ. भाटिया
September 19, 2016 03:16 PM

Pinaka Times, Faridabad; 19th September : मेडिकल क्षेत्र में तेजी से प्रगति हो रही है रोजाना नई - नई खोज और अनुसंधानों की वजह से डॉक्टर्स बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान करवा पा रहे है बड़े चीरों और छिद्रों वाले आप्रेशनों  की जगह बिना चीरे वाले आप्रेशनों ने ले ली है इसी प्रकार की एक अत्याधुनिक तकनीक रेट्रोग्रेड इंट्रा रीनल सर्जरी (RIRS) के बारे में बता रहे है इस क्षेत्र में महारत हासिल कर चुके  सर्वोदय अस्पताल के वरिष्ठ यूरोलॉजिस्ट डॉ० तनुज पॉल भाटिया

‘बेटी बोझ नही खोज है-हम देखें तो सही खोज के’
November 16, 2015 02:58 PM

Pinaka Times, Faridabad; 16th November : फरीदाबाद की होनहार बेटी व कत्थक के आकाश पर चमकता सितारा इलीशा दीप गर्ग अपने गुरू व दुनिया में कत्थक का पर्याय बन चुके पद्म विभूषण पंडित बिरजू महाराज से शिक्षा लेकर केवल 20 वर्ष की छोटी सी उम्र में ही अब उच्च स्तर की कत्थक नृत्यांगना बन गई है। फरीदाबाद के सैक्टर-11 निवासी पिता अरविन्द गुप्ता और माता विनीता गुप्ता की बेटी इलीशा ने यह मुुकाम हासिल करके अपने जिला फरीदाबाद और पूरे प्रदेश हरियाणा का नाम भी ऊँचा करके दिखाया है। देश के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा शुरू की गई ‘बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ’ जैसी अनूठी व पावन मुहिम को भी इलीशा ने अपने ज्ञान, कला व लगन के बल पर कामयाबी हासिल करते हुए ऐसा समर्थन देने का करिश्मा किया है जिसके फलस्वरूप कोई भी प्रयासरत बेटी अपने माता-पिता व समाज से यह आसानी से कह सकती है कि इलीशा की ही तरह मैं भी आपका नाम रोशन कर सकती हँू।

रामलीला के निर्देशक हैं व्यवसायी अनिल चावला
October 17, 2015 11:53 AM

Shikha Raghav, Pinaka Times, Faridabad : रेडीमेंट गारमेंट्स का व्यवसाय करने वाले अनिल चावला सेक्टर-15 श्री श्रद्धा रामलीला कमेटी के निर्देशक हैं। जबकि वह रामलीला के मंच पर लक्ष्मण के किरदार में अभिनय भी करते हुए नजर आ रहे हैं। फरीदाबाद सेक्टर-7 निवासी चावला परिवार के बड़े पुत्र अनिल चावला सेक्टर-7 में ही रेडीमेंट गारमेंट्स का काम करते हैं। अनिल चावला ने बताया कि उनका जन्म पलवल में हुआ। उन्होंने बताया कि जब वह छोटे थे तो अपने पिताजी के साथ रामलीला देखने जाते थे। वहीं से उन्हें रामलीला में अभिनय करने की इच्छा हुई और उन्होंने तभी से रामलीला में अभिनय करना शुरू कर दिया। अनिल बताते हैं कि उन्होंने 25 वर्ष पूर्व पलवल में श्री सनातन धर्म रामलीला कमेटी के मंच पर हनुमान व रावण की सेना में भाग लेकर अभिनय की शुरुआत की। 

15 साल से श्रवण निभा रहे रावण का किरदार
October 10, 2015 12:25 PM

Shikha Raghav, Pinaka Times, Faridabad : पिछले 15 साल से श्रवण चावला लगातार रावण की भूमिका निभा रहे हैं। दशानन रावण रामलीला का सबके आकर्षण का किरदार होता है, इसलिए यह किरदार निभाना कोई आसान बात नहीं है लेकिन श्रवण चावला पिछले 15 सालों से इस किरदार को बखूबी निभाते हुए आ रहे हैं। श्रवण कुमार ने बताया कि रामलीला में रावण का किरदार एक अह्म किरदार है। सबका ध्यान रामलीला में लंका नरेश रावण की ओर ही होता है। इसलिए उन्हें यह किरदार निभाना अच्छा लगता है। श्रवण चावला श्रद्धा रामलीला कमेटी में न सिर्फ एक कलाकार हैं बल्कि वह कमेटी के वाईस प्रेजीडेंट भी हैं।

चारवी चावला के रग रग में बसा है संगीत
October 09, 2015 09:25 PM

Shikha Raghav, Pinaka Times, Faridabad : सेक्टर-7 निवासी 12 वर्षीय चारवी चावला के रग रग में संगीत बसा हुआ है। चारवी अपने संगीत के हुनर की वजह से न सिर्फ फरीदाबाद में बल्कि दिल्ली, यूपी, महाराष्ट्र जैसे कई अन्य प्रदेशों में भी जानी जाती है। मात्र पांच वर्ष की उम्र से ही चारवी संगीत की शिक्षा ले रही है। चारवी चावला ने अपने बारे में बताते हुए कहा कि उसकी मां ज्योति चावला का सपना है कि वह एक बड़ी सिंगर बने। इसी सपने का साकार करते हुए वह पिछले कई सालों से स्वर साधना में अंजु मुंजाल के निर्देशन में क्लासिकल संगीत की शिक्षा ग्रहण कर रही है।

सुरो की मल्लिका निभाएगी सीता का रोल
October 09, 2015 06:48 PM

Shikha Raghav, Pinaka Times, Faridabad : फरीदाबाद की सुरो की मल्लिका युगन्धा वशिष्ठ एक बार फिर श्रद्धा रामलीला कमेटी के बैनर तले हो रही रामलीला में सीता का किरदार निभाते हुए नजर आएंगी। इससे पहले भी पिछले वर्ष युगन्धा सीता का किरदार निभा चुकी हैं। इतना ही नहीं युगन्धा ने पिछले वर्ष बेस्ट सीता अवार्ड भी जीता था। एक्टिंग के साथ-साथ युगंधा सुरों का भी अच्छा खासा ज्ञान रखती हैं। इसलिए यदि युगंधा को सुरो की मल्लिका कहा जाए तो शायद यह गलत नहीं होगा क्योंकि वह संगीत के क्षेत्र में फरीदाबाद का देशभर में नाम रोशन कर चुकी हैं।

अजय रामलीला के मंच से पूरा कर रहे हैं अपना अधूरा सपना
October 09, 2015 12:24 PM

Pinaka Times, Faridabad :  सवा घंटे बिना रूके, बिना भूले दशरथ-केकई संवाद करना कोई आसान बात नहीं है लेकिन श्रद्धा रामलीला कमेटी में दशरथ का किरदार निभाने वाले अजय खरबंदा इस संवाद को पूरी मेहनत और शिद्दत के साथ अंजाम देते हैं। अजय खरबंदा ने बताया कि वह पिछले 7 वर्षों से दशरथ की भूमिका निभा रहे हैं। अब तो उन्हें दशरथ का एक-एक डायलॉग रट सा गया है। हालांकि फिर भी वह अपने किरदार को और निखारने और खूबसूरती से पेश करने के लिए अभ्यास करते रहते हैं। अजय रामलीला मंच पर दशरथ के किरदार के साथ बाली का किरदार भी निभाते हैं। दशरथ जहां बिल्कुल शांत स्वभाव के हैं, वहीं बाली का किरदार काफी अगे्रसिव है। दोनों किरदार एक दूसरे के विपरित है लेकिन अजय दोनों की किरदारों को बड़ी बखूबी के साथ निभाते हैं। 

महिलाओं के लिए उदाहरण बन रही कंचन भड़ाना
September 13, 2015 07:00 PM

Pinaka Times, Faridabad : जिला परिषद् चुनाव में वार्ड नंबर-4 से चुनावी मैदान में कूदकर कंचन भड़ाना ने राजनीति क्षेत्र में अपना पहला कदम रख दिया है। संस्कारों से पूर्ण कंचन भड़ाना महिलाओं के लिए एक उदाहरण पेश करना चाहती हैं। वहीं कंचन भड़ाना ग्रामीण क्षेत्र के बच्चों को बेहतर शिक्षा देना चाहती हैं। पेश हैं जिला परिषद् वार्ड नंबर-4 की उम्मीदवार कंचन भड़ाना से स्टार खबरें द्वारा की गई विशेष बातचीत के कुछ अंश :-

मेहनत ही सफलता की सीढ़ी : अनिल जिंदल
August 01, 2015 02:31 PM

Pinaka Times, Faridabad :

बिना किसी पारीवारिक संपन्नता के सफलता कैसे हासिल की जा सकती है, इसका प्रत्यक्ष उदाहरण हैं एसआरएस गु्रप के सीएमडी डा. अनिल जिंदल। बल्लभगढ़ के छोटे से गांव फिरोजपुर कलां से संबंध रखने वाले डा. जिंदल आज किसी परिचय के मोहताज नहीं है। अनिल जिंदल का बचपन काफी संघर्षपूर्ण रहा है। पिता की सख्त मिजाजी के चलते अनुशासन में रहना उन्होंने बचपन से ही सीखा है।  पढऩे का शौक उन्हें बचपन से रहा है। उनके पिता उन्हें कॉमर्स में प्रवेश दिलाना चाहते थे परंतु सीट खाली न होने के कारण अनिल जिंदल को आर्ट्स व ह्यमैनिटीज स्ट्रीम ही मिल सकी। कॉलेज के दूसरे वर्ष में उन्हें अपने मनपसंद विषय को लेने का अवसर मिला। 

Grievance Redressal Disclaimer Complaint
Pinaka Times
Email : editor@pinakatimes.com
Email : gropinakatimes@gmail.com
Copyright © 2016 Pinaka Times All rights reserved.
Website Designed by Mozart Infotech